सीट बढ़ाने को लेकर कानपुर विश्वविद्यालय के गेट पर एबीवीपी के छात्रों का प्रदर्शन

[Total: 0    Average: 0/5]

कानपुर। सभी स्नातक कॉलेजों में सीटों की वृद्धि को लेकर अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ताओं ने कई छात्रों के साथ कानपुर विश्वविद्यालय गेट पर धरना दिया। छात्रों ने विश्वविधालय प्रबंधन के खिलाफ जमकर नारेबाजी करने के साथ अंदर घुसने का प्रयास किया जिससे मेन गेट को ताला बंद कर दिया गया। विश्वविद्यालय के गेट का ताला बंद होने से छात्र व विद्यार्थी परिषद के लोग आक्रोशित हो गए और ज़बरन अंदर घुसने की कोशिश की। ज़बरदस्ती अंदर घुसने की कोशिश के चलते पुलिस ने उनको रोकने की कोशिश की तो छात्र काफी आक्रोशित हो गए और पुलिस से हाथापाई की नौबत आ गई। आक्रोशित छात्रों को पुलिस जब समझा पाने में नाकाम साबित हुई तो उनको हल्का बल प्रयोग करना पड़ा।

आपको बता दें कि विश्वविधालय की तरफ से पहले ही बीस परसेंट सीटों की बढ़ोत्तरी कर दी गई है। इसके बावजूद विद्यार्थी परिषद के लोग और सीटों को बढ़ाने की मांग कर रहे हैं। छात्रों की मांग को देखते हुए विश्वविधालय प्रबंधन ने तिथि को आगे बढ़ाने का प्रयास किया जिसको लेकर अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के लोगों ने साजिश समझी और मेन गेट पर धरना प्रदर्शन कर दिया। अखिल विद्यार्थी परिषद के लोगों ने आरोप लगाया कि स्वावित्त पोषित कॉलेजों को लाभ पहुंचाने के लिए विश्वविद्यालय ने यह कदम उठा रहा है।

अखिल भारतीय विध्यार्थी परिषद् के महामंत्री रजत कटियार का कहना है कि कानपुर विश्वविधालय के कुलपति ने कॉलेजों की सीटों को बढ़ाने के लिए अगर कोई एक्शन नहीं लेगी तो हम लोग विश्वविधालय गेट पर आमरण अनशन करेंगे। विद्यार्थी परिषद् के महानगर मंत्री ने आरोप लगाया कि डीएवी कालेज में 800 सौ फ़ार्म बाटे गए लेकिन सिर्फ 300 सौ सीटों पर परीक्षा एडमिशन लिया गया। विद्यार्थी परिषद के लोगों ने आरोप लगाया कि विश्वविधालय की वाइस चांसलर ने कहा कि चाहे विद्यार्थी परिषद या कोई संगठन हो जिसको जो करना हो वो कर ले हम सीटे नहीं बढ़ाएंगे।

विश्वविद्यालय की वाइस चांसलर के इस बयान के बाद विद्यार्थी परिषद् वा छात्रों का गुस्सा फूट पड़ा और वह सड़क जाम करने लगे जिसको लेकर पुलिस ने जब उनको समझाने का प्रयास किया तो छात्र आक्रोशित हो गए और पुलिस से हाथापाई करने लगे। छात्रों को हटाने के लिए पुलिस ने हल्का बल प्रयोग कर छात्रों को खदेड़ दिया।

source: oneindia.com

Leave a Reply